कालवाची--प्रेतनी रहस्य--(अन्तिम भाग)

75 भाग

363 बार पढा गया

25 पसंद किया गया

सारन्ध जैसे ही राजमहल के द्वार पर पहुँचा तो उसकी दयनीय स्थिति को देखकर द्वारपाल शीघ्रता से गिरिराज के पास पहुँचा और उससे बोला.... "महाराज! राजमहल के मुख्य द्वार पर राजकुमार ...

अध्याय

×