Anam

लाइब्रेरी में जोड़ें

कबीर दास जी के दोहे



सुमरित सुरत जगाय कर, मुख के कछु न बोल
बाहर का पट बन्द कर, अन्दर का पट खोल।। 

   1
0 Comments