Anam

लाइब्रेरी में जोड़ें

कबीर दास जी के दोहे



सतगुरु मिला तो सब मिले, ना तो मिला न कोय
मात-पिता, सुत बान्धवा, यह तो घर-घर होय।। 

   1
0 Comments