Anam

लाइब्रेरी में जोड़ें

कबीर दास जी के दोहे



दीथा है तो कस कहू, कह्य ना को पतियाय
हरी जैसा है तैसा रहो, तू हर्शी-हर्शी गुन गाई।। 

   1
0 Comments