Anam

लाइब्रेरी में जोड़ें

कबीर दास जी के दोहे



मेरे संगी दोई जरग, एक वैष्णो एक राम
वो है दाता मुक्ति का, वो सुमिरावै नाम।। 

   1
0 Comments