Simran Ansari

लाइब्रेरी में जोड़ें

सीक्रेट एडमिरर (प्रतियोगिता हेतु)






प्रीति अब भले ही एक मशहूर गायिका बन चुकी है, लेकिन उसके अंदर की बच्ची अभी भी कहीं न कहीं जिंदा है, और वो भी सबसे ज्यादा उसके अंदर की बच्ची बाहर आती है, उसके जन्मदिन वाले दिन!

और आज प्रीति का जन्मदिन है , आज के दिन सुबह उठकर सबसे पहले प्रीति अपने सारे तोहफे खोलकर देखती है जोकि उसे उसके फैमिली , फ्रेंड्स और फैंस ने भेजे होते हैं। तोहफे देखकर प्रीति एकदम बच्चों की तरह खुश होती है।

लेकिन इतने सब तोहफो में हर साल उसे तलाश रहती है उस एक छोटी सी चिट्ठी की , जो की हर साल बिना किसी नाम के उसके घर आती है, उस चिट्ठी में प्रीति की आवाज और गानों के साथ साथ सुंदरता की तारीफ लिखी होती है और साथ ही उसके आने वाले गानों और जीवन के लिए ढेर सारी शुभकामनाएं भी;

उस चिट्ठी के अंत में कभी भी किसी का नाम और पता लिखा नहीं होता , अंत में सिर्फ इतना ही लिखा होता है, "योर सीक्रेट एडमिरर"

अपने घर में बाकी सब के जागने से पहले ही प्रीति वो चिट्ठी अपने पास संभाल कर रख लेती है, ये चिट्ठी उसे पिछले पांच सालों से हर साल अपने जन्मदिन वाले दिन ही मिलती हैं और इसके अलावा प्रीति को अपने इस "सीक्रेट एडमिरर" के बारे में कुछ भी पता नहीं है।

लेकिन फिर भी पता नहीं क्यों उसे वो चिट्ठी हमेशा अपने दिल के बहुत करीब और खास लगती हैं। उसका मन करता है कि वो पता करे की आखिर कौन है उसका सीक्रेट एडमिरर? प्रीति को ऐसा लगने लगता है कि शायद उसे अपने उस सीक्रेट एडमिरर से, प्यार हो गया है; लेकिन उसे इस बारे में कोई भी क्लू नही मिलता है।

दिन में प्रीति के बचपन के दोस्त और बेस्ट फ्रेंड अमर का फोन आता है और वो उसे लंच के लिए इनवाइट करता है, प्रीति की बर्थडे पार्टी शाम को रहती है और वो दिन में घर पर रहकर बोर होती रहती है इसलिए अमर के साथ लंच पर चली जाती है।

एक शानदार और लग्जरी रेस्टोरेंट की कॉर्नर टेबल पर बैठी प्रीति अमर के लंच कर रही थी, लंच खत्म करने के बाद; प्रीति अमर से कहती है - "लंच इस अमेजिंग, थैंक यू सो मच गिविंग मी दिस स्पेशल बर्थडे ट्रीट!"

"अभी थैंक यू मत बोलो प्रीति, अभी तो तुम्हारा बर्थडे गिफ्ट भी बाकी है!" - अमर ने कहा

"ओके, तो फिर कहां है मेरा बर्थडे गिफ्ट लाओ मुझे दो"

"ऐसे नहीं पहले अपनी आंखें बंद करो, सरप्राइस है"

ओके बोलकर प्रीति ने अपनी आंखें बंद कर ली, और अमर उसके सामने गुलाब और अंगूठी की डिब्बी लेकर घुटने के बल बैठता हुआ बोला - "हैप्पी बर्थडे प्रीती, द लव ऑफ माय लाइफ, आई लव यू, विल यू मैरी मी ?"

एकदम अचानक से अमर का कन्फेशन सुनकर प्रीति हैरान होते हुए बोली - "आई एम सो सॉरी अमर, थैंक यू फॉर ऑल दिस लेकिन मुझे लगता है, मैं किसी और से प्यार....."

प्रीति बोल ही रही थी कि अमर ने अपनी उंगली उसके होंठों पर रख दी और बोला - "प्रीति, कोई भी जवाब देने से पहले एक बार अंगूठी में रखा नोट तो पढ़ लो।"

यह सुनकर प्रीति ने रिंग की डिब्बी खोल दो उसमें एक छोटा सा हैंड रिटन नोट था - जिस पर हैप्पी बर्थडे प्रीती के साथ-साथ आई लव यू और विल यू मैरी मे भी लिखा था और साथ ही नीचे लिखा था - "योर सीक्रेट एडमिरर"

वह नोट पढ़कर प्रीति की आंखों में खुशी के आंसू आ गए, और वो यस बोलते हुए अमर के गले लग गई।



समाप्त।।।



Simrana


   3
2 Comments

Miss Lipsa

06-Sep-2021 06:49 PM

Nice

Reply

🤫

06-Sep-2021 01:52 PM

बहुत बढ़िया...लेकिन कुछ अधूरा सा...

Reply