Gunjan Kamal

लाइब्रेरी में जोड़ें

अधूरे जज़्बात भाग :- २५ " खुशी "

                         भाग :- २५ " खुशी " 

बहुत कम ऐसे लोग होते है जिन्हें अपना  प्यार हासिल होता है  और साथ ही ऐसे लोगों की संख्या भी बहुत अधिक है जो किसी से सच्चा प्यार तो  करते है किन्तु सामने वाला आपकी भावनाओं को नहीं समझते हुए आपसे  प्यार नहीं करता ।'   सुजाॅय ने शिविका से कहा ।

सुजाॅय को अपनी उस दिन की गलती का एहसास हो चुका था इसलिए उसने शिविका से माफ़ी माॅंगने के उद्देश्य से उसको उसी रेस्टोरेंट में बुलाया था जहाॅं पर उसकी और अरण्या की पहली और दूसरी डेट हुई थी कुछ देर पहले जो सुजाॅय ने शिविका से कहा था वह उसी रेस्टोरेंट और उसी जगह  पर बैठ कर कहा था

' अरण्या भी आपसे उतना ही प्यार करती है जितना कि आप उससे करते है' शिविका ने कहा

' लगता है आज आप मज़ाक करने आई है दो डेट को तो आपने अरण्या जी को मेरा पोपट बनाने के लिए भेज दिया और आज आप खुद मेरा मजाक बना रही है'           सुजाॅय ने कहा

' मैं आज यहाॅं पर आपका मजाक उड़ाने बिल्कुल भी नहीं आई हूॅं जो सच्चाई मुझे मालूम थी मैं सिर्फ उसी को बता रही हूॅं हम लड़कियां लड़कों की तरह नहीं होती हम जिनसे प्यार करती है उसे कभी भी धोखा देने का स्वप्न में भी सोच नहीं सकती । मैं अपनी दोस्त को बहुत अच्छे से जानती हूॅं अगर आपने उससे अपने प्यार का इजहार कर दिया , अपने जज्बातों को उसके सामने दृढनिश्चय के साथ रखा और उसे यह विश्वास दिला दिया कि आप उसका साथ किसी भी परिस्थिति में नहीं छोड़ेंगे तों यकीन मानिए मेरा सुजाॅय बाबू ! मेरी दोस्त आपकी हमेशा के लिए हो जाएगी । जिस दिन आपने मेरे कहेनुसार  कर दिया  वह सबकुछ छोड़कर आपके  पास  दौड़ी चली आएगी  ।'     शिविका ने कहा

' अरण्या जी ने तो कभी भी मुझे ऐसा नहीं कहा और ना ही कभी उनकी बातों से ही मुझे पता चला कि वह मुझ पर आकर्षित है'   सुजाॅय ने आश्चर्य से कहा

' मैं आपसे कह रही हूॅं ना कि अगर आपको उसे अपनी जिंदगी में शामिल करना है तो अपने भीतर सकारात्मक ऊर्जा का संचार करते हुए अरण्या के दिल में अपने लिए विश्वास जगाइए प्यार का सबसे अच्छा सबूत विश्वास होता है आप खुद पर से किसी भी परिस्थिति में उसका विश्वास खोने मत देना आप देखना ऐसा करने के बाद आपका प्यार हमेशा के लिए आपके पास ही रहेगाशिविका ने सुजाॅय को समझाते हुए कहा

शिविका की कही बातें सुजाॅय के दिल में घर करने लगी , उसके दिल - दिमाग को झकझोरने लगी उसे लगने लगा कि अगर अरण्या उससे प्यार करती है तो कम से कम एक बार तो मैं उसके लिए अपने डैडी से बात कर ही सकता हूॅं अपने प्यार तक पहुॅंचने का उसे रास्ता दिखाई देने लगा था उसके चेहरे से गायब मुस्कुराहट अब फिर से लौट आई थी

' आपने मेरे बारे में इतना सोचा , इसके लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद शिविका जी मैंने आपको उस दिन आपके घर पर ना जाने क्या-क्या कह दिया था जिसका पछतावा मुझे अभी तक है आप भी मुझे उस दिन की बदतमीजी के लिए माफ़ कर दीजिए ।'
सुजाॅय ने शिविका की तरफ देखते हुए कहा

' मैंने आपकी उस दिन की बातों को बुरा नहीं माना है आपकी हालत मैं समझती हूॅं , आपकी जगह पर कोई और होता वह भी मुझे उतना ही सुनाता जितना आपने सुनाया था'        शिविका ने कहा

' यह आपकी महानता है कि आपने मेरी कटुता भरी बातों को सुनकर भी मुझे माफ़ कर दिया अपने साथ घटित सारी गलतियों का जिम्मेवार मैं सिर्फ और सिर्फ आपको ही मानता रहा लेकिन आज आपका मेरे प्रति दोस्ताना व्यवहार देखकर मैं कहने पर मजबूर हो गया हूॅं आपने अरण्या जी को पहली और दूसरी बार डेट पर उनकी भलाई के लिए भेजा होगा मैं नहीं जानता कि असल वजह क्या थी लेकिन जों वजह आपने मुझे बताई वह तो बिल्कुल भी नही है '
सुजाॅय ने कहा

' कुछ बातें ऐसी होती हैं जो सिर्फ और सिर्फ अपने तक ही सीमित रहें वही हम सबके लिए अच्छा होता है लेकिन मेरी अरण्या के प्रति की गई इस भावना को खुद अरण्या जान चुकी है आपकी और अरण्या की शादी के बाद इस बात को आप खुद ही उससे पूछ सकते है अभी आप सिर्फ अपने और अरण्या के बारे में सोचते हुए अपने डैडी से इस संबंध में बात करना शुरू कीजिए क्योंकि आपको तो मालूम ही है कि हम दोनों के पिता एक महीने के भीतर ही हमारी शादी करवाना चाहते हैं'     शिविका ने सुजाॅय से कहा

' मुझे याद है शिविका जी ! वैसे भी अरण्या की खुशी मेरे लिए सबसे अधिक मायने रखती है और उसकी खुशी के लिए मैं कुछ भी करने को तैयार हूॅं ।'
सुजाॅय ने शिविका की तरफ मुस्कुरा कर कहा

शिविका आज सुजाॅय से मिलकर , उससे बातें कर बहुत ही अधिक खुश थी सुजाॅय की तरह वह भी अरण्या की ही खुशी चाहती थी

क्रमशः

" गुॅंजन कमल " 💗💞💓

   16
4 Comments

Chirag chirag

02-Dec-2021 09:21 PM

Nice part mam

Reply

Ammar khan

30-Nov-2021 11:35 AM

Good

Reply

Shalini Sharma

22-Sep-2021 11:50 PM

Beautiful

Reply