कबीर दास जी के दोहे

404 भाग

13 बार पढा गया

1 पसंद किया गया

उतते कोई न आवई, पासू पूछूँ धाय इतने ही सब जात है, भार लदाय-लदाय।।  ...

अध्याय

×