कबीर दास जी के दोहे

410 भाग

5 बार पढा गया

1 पसंद किया गया

संत ही में सत बांटई, रोटी में ते टूक कहे कबीर ता दास को, कबहूँ न आवे चूक।।  ...

अध्याय

×