लेखनी कविता -24-Jan-2023

1 भाग

201 बार पढा गया

10 पसंद किया गया

*नदी किनारे* वाह!कितनाअनुपम दृश्य नदी किनारे । नैना तरसे प्रिय आ जाओ पास हमारे ।। गंगा की कलकल करती धार बहे। मन में पिया मिलन की रस धार बहे।। किनारे दूर ...

×