कबीर दास जी के दोहे

404 भाग

26 बार पढा गया

1 पसंद किया गया

मेरे संगी दोई जरग, एक वैष्णो एक राम वो है दाता मुक्ति का, वो सुमिरावै नाम।।  ...

अध्याय

×