कबीर दास जी के दोहे

255 भाग

114 बार पढा गया

2 पसंद किया गया

बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय।। अर्थ : जब मैं इस संसार में बुराई खोजने चला तो मुझे कोई बुरा ...

अध्याय

×