तू आगे बढ़ता जा बढ़ता जा ओ पथिक

1 भाग

227 बार पढा गया

18 पसंद किया गया

तू अपने कर्तव्य पथ पर रहना अड़िग, तू वीर तू महावीर तूही अपना यौथिक। विशाल समुंदर भी कुछ नहीं तेरे आगे, तू आगे बढ़ता जा बढ़ता जा ओ पथिक।। ये मार्ग ...

×