स्त्रीत्व

1 भाग

255 बार पढा गया

19 पसंद किया गया

तुम सभा तुम ही समिति तुम युगों की आपबीती। तुम स्वधा तुम ही स्वाहा हो तुम ही गंगा तुम अदिति। तुम धवल क्रीड़ा में लिपटे सूर्य की भी पुण्य दीप्ति। तुम ...

×