हिंदी की कहानियां "चित्तौड़ उद्धार"

392 भाग

57 बार पढा गया

2 पसंद किया गया

दीपमालाएँ आपस में कुछ हिल-हिलकर इंगित कर रही हैं, किन्तु मौन हैं। सज्जित मन्दिर में लगे हुए चित्र एकटक एक-दूसरे को देख रहे हैं, शब्द नहीं हैं। शीतल समीर आता है, ...

अध्याय

×