धर्म नगर

85 भाग

3 बार पढा गया

0 पसंद किया गया

बचपन में मुझे बताया गया था कि किसी नगर में हर आदमी धर्म-ग्रंथ के अनुरूप आचरण करता है। मैंने कहा, "मैं उस नगर और उसकी पवित्रता को देखना चाहूँगा।" यह काफी ...

अध्याय

×