"ख़ून के सैलाब में"

1 भाग

27 बार पढा गया

2 पसंद किया गया

"ख़ून  ही  ख़ून  होगा निगाहें  जिस   तरफ़   भी   जायेंगी !  ये     फ़िज़ायें   भी  ख़ून  से  रंगीन         हो       जायेंगी ...

×