जब मैंने अपना घर छोड़ा था

1 भाग

273 बार पढा गया

14 पसंद किया गया

जब मैंने तेरे लिए अपना घर छोड़ा था, अपने तमाम रिश्तों को पल में तोड़ा था। तेरे अलावा कुछ नहीं दिख रहा था मुझे, तुझसे शादी का दुप्पटा सर पर ओढ़ा ...

×