मर्यादा

1 भाग

333 बार पढा गया

51 पसंद किया गया

बिकने लगा  है बाज़ार  में, अब हर  तरह का  प्यार दोस्त भी  करने  लगे  हैं, सामने  से  सीने पर  वार ना रही  इज्जत  दिल  में, ना ही  रिश्तों की  मर्यादा बेच ...

×