संवाद

1 भाग

229 बार पढा गया

37 पसंद किया गया

संवाद वो – हक से डांटते हो तो कितना सुकून मिलता है दिल को         पर तुम्हारी खामोशी तोड़ देती है कुछ अंदर तक। मैं –  कभी कभी भूल जाता हूं ...

×