कर्ण: एक आदर्श?

1 भाग

456 बार पढा गया

14 पसंद किया गया

पता नहीं क्यों? पर तुमको मैं, आदर्श  नहीं  हूँ  कह  पाता। अंगराज तुम मौन रहे पर, क्यों मौन नहीं मैं रह पाता? सूर्यपुत्र थे, अमित तेजबल, धनुविद्या के अद्भुत ज्ञानी। देवों ...

×