रतनगढ - कहानी दो जहां की अंतिम भाग (भाग 23)

23 भाग

210 बार पढा गया

29 पसंद किया गया

हाँ निहारिका समर ने चारो ओर देखते हुए कहा। निहरिका चारो ओर ध्यान से देखती है वहाँ उसे बस एक मिट्टी की हाथ भर की मूर्ति दिखती है। निहारिका समर चौकन्ने ...

अध्याय

×