तेरी कुदरत की कुदरत (नज़ीर अकबराबादी)

203 भाग

137 बार पढा गया

9 पसंद किया गया

तिरी क़ुदरत की क़ुदरत कौन पा सकता है क्या क़ुदरत तिरे आगे कोई क़ादिर कहा सकता है क्या क़ुदरत तू वो यकता-ए-मुतलक़ है कि यकताई में अब तेरी कोई शिर्क-ए-दुई का ...

अध्याय

×