रुबाइ

1 भाग

19 बार पढा गया

0 पसंद किया गया

दीया तेरे नाम  का एक जलता  रहेगा,  मोम की  मानिन्द ये  पिघलता  रहेगा।  ये मेरी दीवाली है कभी  ख़त्म न होगी,  खेल हुस्नो-इश्क़ का भी चलता रहेगा।।  ...

×