लेखनी कहानी -15-May-2024

1 भाग

7 बार पढा गया

2 पसंद किया गया

"ना सुनूंगी " भोली सुरत लेके तु मुझको क्यो बहकाता है। आलाप ना कर, तेरी मैं ना सुनगी बहाना लेके तु मीठे बोल से क्यों समझाता है । आलाप ना कर, ...

×