जीवन में संतोष (स्वर्णमुखी छंद-सानेट)

1 भाग

266 बार पढा गया

9 पसंद किया गया

*लेखनी काव्य प्रतियोगिता* *02 अप्रैल,2024* *शीर्षक:जीवन में संतोष (स्वर्णमुखी छंद/सानेट)* जीवन में संतोष जरूरी। ईश्वर पर सब छोड़ चलो जब। मिल जायेगी राह स्वयं तब। यात्रा होगी निश्चित पूरी। हाय हाय ...

×