सूखे पत्ते सा है हमारा जीवन

96 भाग

200 बार पढा गया

15 पसंद किया गया

सूखे पत्ते सा है हमारा जीवन न कर दिल ए नादान ऐसे ख्वाब की ख्वाहिश जिससे कि तुम दर्द के अथाह सागर में डूब जाओ। व्यवहार ही जीवन की सार है ...

अध्याय

×