रव्या का गिफ्ट

0 भाग

309 बार पढा गया

16 पसंद किया गया

भैया उठो , सुबह का ही मुहूर्त है। बोलते हुए रव्या अपने भाई का चादर खींचने लगी । रव्या का भाई अभी चिढ़ते हुए " क्या सिर दर्द है , सुबह ...

×