अदम्य आकांक्षा

1 भाग

272 बार पढा गया

8 पसंद किया गया

::अदम्य आकांक्षा...! ++++सब कुछ नष्ट गया,  मेरी अदम्य आकांक्षा, घृणा,द्वेष, और ईर्ष्या की आग में  सब कुछ भस्म हो गया। मानो एक बुलबुला था  जो अपनी चमक-दमक  बिखेर कर स्वयं बिखर ...

×